what is the internet in hindi । इंटरनेट क्या है


  • What is the intenet in hindi | Internet kaise Chalta hai |  इंटरनेट क्या है ?


इंटरनेट क्या है यह सवाल आपके दिमाग में उठना बहुत आम बात है क्यों आज इंटरनेट के बिना हमारा कोई भी कार्य संभव नहीं है क्योंकि यह हमारे कार्य को करने की एक दिशा की और ले गया है इसलिए यह जानकारी होना बहुत ही जरूरी है की इनटरनेट क्या है अथवा What is the internet in hindi आप सभी को पता है की इंटरनेट हमारे लिए कितना जरूरी है 

आज हम इंटरनेट के ही माध्यम से ही किसी से हम लाइव बात कर सकते है और अपनी जानकारी साझा कर सकते है इंटरनेट का हमरे जीवन में यही उद्देश्य है की इसके जरिये हम किसी भी सोचना या डाटा का आदान प्रदान आसानी से कर सकते हैइंटरनेट के जरिये हम कसी भी ब्यक्ति तक आसानी से 1 सेकंड में पहुंच सकते है   

What is internet in hindi | इनटरनेट कैसे चलता है 





What is the internet in hindi |internet kya hai
What is the internet in hindi |internet kya hai 

इनटरनेट अरबो कम्पूटरो का एक विशाल समूह है जो एक दूसरे से जुड़े रहते है यह एक दूसरे से इंटरनेट पर जुड़ने के लिए प्रोटोकॉल ( TCP/IP ) का प्रयोग करते है Protocol क्या है इसके बारे में हम आपको आगे बताएंगे पहले जान लेते है इनटरनेट क्या है यह उन नेटवर्को का एक Main नेटवर्क है जो इलेक्ट्रॉनिक तरीके से सारी दुनिया के कम्प्यूटर एक साथ जुड़े है जिस प्रकार एक नेट या जाल एक ही धागे में बनाया जाता है वह एक दूसरे से जुड़े रहते है तब एक विशाल नेट या जाल तैयार होता है उसी प्रकार इनटरनेट भी होता है इसे ही इंटरनेट कहते है हम आपको What is the internet in hindi के इस लेख में आज इंटरनेट के बारे में सारी जानकरी जानकरी आप तक पहुचायेंगे 

दुनिया के सारे कम्प्यूटर मिल कर एक विशाल इंटरनेट तैयार करते है यह आपस में जुड़े रहते है इसीलिए इसे इंटरनेट का नाम दिया गया , इटरनेट का प्रयोग एक कंप्यूटर को दूसरे कम्प्यूटर तक डाटा का आदान प्रदान करने के लिए ही किया जाता है

दुनिया के 190 देशो में आज इंटरनेट का प्रयोग किया जा रहा है जो सभी देशो के नेटवर्क यानि कम्प्यूटर के साथ जुड़े है जो आपस में अपनी जानकारी को साझा करते है .

इन कम्पूटरो का डाटा एक सर्वर में सेव रह्ता है सर्वर एक तरह का स्टॉरेज होता है जिसे हम मैमोरी भी कह सकते है यह मेमोरी ऑनलाइन होती है जिसे हम ऑनलाइन दूसरे कम्प्यूटर से उस डाटा को देख सकते है या डाउनलोड कर सकते है।

शायद आपको पता न हो की दुनिया के सारे Computer एक दुसरे से कैसे कनेक्टेड होते है तो चलिए जानते है .
जैसा की हमने आपको बताया की सभी कम्प्यूटर आपस में जुड़े रहते है इनको एक दूसरे से जुड़ने का कार्य एक केबल यानी Wire के जरिये किया जाता है इस केबल को हम Optical Fiver Cable कहते है।

यह केबल दुनिया के सभी देशो में समुद्र में बिछाया गया है यह एक दूसरे देशो से आपसे में जुड़े रहते है जिसकी वजह से हम दूसरे देशो के डाटा को इंटरनेट पर देख पाते है।


दुनिया का 90 % डाटा पब्लिक के लिए होता है 10 % डाटा ऐसा होता है जिसे निजी जानकरी की सुरक्षा के लिए सरकारी संस्थानों के प्रयोग के लिए किया जाता है जिससे की उस देश की सुरक्षा बनी रहे

जैसा की आप लोग जानते है Jio के आने के बाद इंडिया में इंटरनेट का विस्तार और बढ़ा और साथ ही काम पैंसे में हमें ज्यादा इंटरनेट देता है और साथ ही हमें इनटरनेट की स्पीड भी ज्यादा मिलने लगा

ऐसा इसलिए हुआ की Jio ने अपना खुद का Internet Cable दुनिया में फैलाया और साथ ही उसका अकेला मालिक होने के कारन इन्हे किसी को पैसे नहीं चुकाने पड़ते है जिसकी वजह से हमें ज्यादा स्पीड हुए काम पैसे में ज्यादा डाटा की सुबिधा प्रदान किया

अब तो आप समझ ही गए होंगे की Internet kya hai और इंटरनेट कैसे चलता है। 


इंटरनेट का इतिहास और इंटरनेट के जनक कौन हैं 


इंटरनेट की शुरुआत 1960 के दसक से सुरु हुई इंटरनेट का प्रयोग सर्वप्रथम अमेरिका में सुरक्षा विभाग के ARPANET ( Advance Reserch Agency Net ) ने किया था Internet का प्रयोग सुरक्षा बिभाग उस समय भी इसका प्रयोग डाटा का आदान प्रदान के लिए किया गया था। 

सर्वप्रथम अर्पानेट ने अमेरिका में स्थित 4 कम्पूटरो को एक साथ जोड़ा था इस नेटवर्क का विकास बहुत ही तेज़ हुआ 1971 तक इस नेटवक में 10000 कम्पूटरो को एक साथ जोड़ा जा चूका था। 

अर्पानेट का विकास निरंतर बढ़ता रहा अब तक इस नेटवर्को का प्रयोग सुरक्षा और शिक्षा के कार्यो में ही होता रहा Arpanet ने अमेरिका के बाहर प्रथम अंतरराष्ट्रीय कनेक्शन नर्वे और इंग्लॅण्ड से किय गया यह आगे बढ़ा कर 100000 को इसमें शामिल किया चूका था यह वह समय है जब internet को पब्लिक के लोगो के प्रयोग के लिए खोल दिया गया था। 

उसके बाद से इंटरनेट के बिस्तर में बहुत ही तेज़ी से बृद्धि हुई और आज आपके सामने है की इंटरनेट के माधयम से आज हमारा हर कार्य हो रहा है। 

अब आप सोच रहे होंगे हम तो अपने मोबाइल में इंटरनेट बिना वायर के ही चला लेते है। यह आप को किसी न किसी नेटवर्क के जरिये ही आप इंटरनेट चला पते है यहाँ पर आपको इंटरनेट मोबाइल टावर के जरिये आपकी सर्विस प्रोवाइडर आपको पहुँचती है। 

जिस प्रकार आपके मोबाइल को बिना वायर के सिग्नल मिलता है उसी तरह यह आपको इंटरनेट की सुबिधा प्रदान की जाती है। 

इंटरनेट की विस्तार होने के कारण इंटरनेट के कुछ नियम बनाये गए जिन्हे Internet Protocol कहते है चलिए जानते है इंटरनेट प्रोटोकॉल इन हिंदी में जानते है। 


इंटरनेट Protocol क्या है |  इंटरनेट Protocol in hindi 



जिस प्रकार ट्रैफिक को नियंत्रित करने के लिए ट्रैफिक नियम बनाये गए है उसी प्रकार internet को सही ढंग से चलने के लिए Internet प्रोटोकॉल बनाया गया है यह नियम सॉफ्टवेयर के जरिये नियंत्रित किया जाता है। 

इंटरनेट भी एक प्रकार का ट्रैफिक है इसमें एक साथ एक डाटा से कनेक्ट होने के लिए लाखो लोग एक साथ उस Website पर जाते है हर यूजर का अलग Ip Address होता है जिसके जरिये यूजर की पहचान की जाती है इसी ip के जरिये उस यूजर को नियंत्रित किया जाता है। 

और उसके डाटा तक पहुंचाया जाता है जहा उस यूजर को जाना होता है यह कार्य Internet Protocol के जरिये ही किया जाता है। 

जब हम किसी वेबसाइट पर कोई डाटा डाउनलोड या अपलोड करते है तो यह इंटरनेट Protocol नियम को पालन करता है।

 जब हम कोई डाटा डाउनलोड करते है तो वह टुकड़ो में डाउनलोड होता है जैसा की अपने देखा होगा कि , कोई डाटा अपलोड होता है तो वह प्रतिशत में डाउनलोड होता है यानि एक सार्थ पूरा डाटा लोढ़ा नहीं होता इसका मतलब वह टुकड़ो में डाउनलोड होता है समझ ही गए होंगे की Internet Protocal kya hai 

   

Internet का मालिक कौन है ?

यदि हम बात करें Internet का मालिक कौन है तो इंटरनेट का कोई मालिक नहीं है क्योंकि इंटरनेट पर किसी एक ही देश का डाटा नहीं है जो वह अकेला मालिक हो जायेगा दुनिया के 190 देशो का computer internet के माधयम से जोड़ा गया है सभी देश मिल कर एक विशाल नेटवर्क आज बना पाए है 


  internet के लाभ और हानि 

वैसे तो internet के लाभ ज्यादा है जैसा की हम जानते है की इंटरनेट के आने से हमारा हर काम सरल और जल्दी होने लगा है और इसके आने से हमारा समय भी बहुत बचा है समय के साथ इसने समय की भी बचत किया है।  
फिर आपको internet ke labh aur hani के बारे में step by step बताएंगे 

Internet के लाभ ?

  • आज इंटरनेट के होने से हम कसी भी सूचना को दुनिया में कही भी  1 सेकण्ड में कही भी पंहुचा सकते है जब इंटरनेट नहीं हुआ करता था तब हम  कोई भी जानकारी पोस्ट के माध्यम से अपने प्रियजनों तक पहुंचते थे और उसमे बहुत समय और पैंसा लगता था। और आज इंटरनेट के होने से कितना आसान हो गया है यह आप जानते है। 
  • आज का इंटरनेट इतना स्मार्ट हो गया है की हम ऑनलाइन अपने बिजली का बिल जमा कर सकते है और ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते है यदि आप किसी को पैसे भेजना चाहते है तो 1 मिनट में किसी को भी पैसे भेज सकते है। 
  • इंटरनेट के लाभ बहुत है मुझे आपको यह बताने की जरूरत नहीं है आप यह जानते है आज हम इन्टरनेट के जरिये ऑनलाइन पढाई कर सकते है आपको स्कूल कालेज जाने जरूरत नहीं है साडी जानकारी आपको इंटरनेट के माधयम से आसानी से बिना पैसे खर्च किये कर सकते है। 
  • आज सबसे बड़ा Internet ke labh यही है की आपको चाहे जिस प्रकार की जानकारी चाहिए वह इंटरनेट के जरिये आपको आसानी से मिल जाएगी यदि हम internet ke labh के बारे में बताना चाहे तो इसकी लिस्ट बहुत बड़ी हो जाएगी 
चलिए अब हम Internet के हानि के बारे में कुछ जान लेते है। 


Internet के हानि क्या है ?


यदि आपको इंटरनेट की पूरी जानकारी है तो आपको इंटरनेट के हानि नहीं है आप जिस तरह इंटरनेट का प्रयोग करते है इसके लाभ और हानि उसी पर निर्भर करता है। चलिए फिर भी आपको हानि से बचने के कुछ उपाय बताते है। 

  • सबसे  पहले आपको यही ध्यान देना है की आप इंटरनेट का इस्तेमाल अपनी ज्ञान को बढ़ने के लिए ही करें अपना सारा समय इसी में व्यतीत न करें आपको जो भी जानकारी चाहिए वह आप इंटरनेट पर आसानी से ले सकते है। 
ऐसा इसलिए मै आपको बता रहा हों आज हर बच्चे के हाथ में मोबाइल देखने को मिलता और और वह पढाई लिखे छोड़ कर वह दिन भर उसी में लगा रहता है आप इस पर ध्यान दे इसकी लत न लगाए। 

  • इंटरनेट की गति इतनी तेज़ है की मिनटों में कोई भी चीज दुनिया तक पहुंचे जा सकती है आपने अक्सर देखा होगा की किसी की प्राइवेट जिनकी का डाटा इंटरनेट पर वायरल हो जाता है। इसलिए यह जरूरी है की आप इंटरनेट पर सभी डाटा को लॉक कर किसी सेफ फाइल में रखे। 

  • इंटरनेट का इस्तेमाल करते समय यह ध्यान दे की आप जब किसी वेबसाइट पर जाये तो अपना निजी जानकारी को देने से बचे लगभग 70 % से ज्यादा वेबसाइट आपकी निजी जानकारी को बेचती है। 
इसलिए कही भी अपनी जानकारी देने से पहले उस वेबसाइट की जानकारी जरूर ले  की वह फ्रॉड तो नहीं करेगी आपके साथ , हालाँकि सभी वेबसाइट ऐसी नहीं होती यह आपके डाटा को किसी को नहीं बेचती। 


  • जैसा की आप जानते है की internet पर किसी भी प्रकार की ऑनलाइन  सुबिधा लेने के लिए आपको वह रजिस्ट्रेशन करना पड़ता है रजिस्ट्रेशन करते समय अपना आईडी और पासवर्ड मजबूत बनाये जिससे आपके पासवर्ड का कोई अंदाजा न लगा सके और ऑनलाइन फ्रॉड से बचे रहे। 
हमने आपको internet के कुछ हानि के बारे में बताया है यदि आप इसका पालन करते है तो आपको Internet ke hani नहीं हो सकती। 

इसे भी पढ़े :










निष्कर्ष :

आज आपने What is Internet in hindi पोस्ट के माध्यम से यह जाना की इंटरनेट क्या है और साथ ही इंटरनेट के बारे में सरे जानकारी दी , और साथ ही internet के लाभ और हानि के बारे में भी बताया है। यदि आपको internet क्या है इससे  सम्बंधित आपके कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है। 

और साथ ही यह पोस्ट अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जिससे उन्हें भी जानकारी हो की इंटरनेट क्या है 
हमारे वेबसाइट www.technicradar.com पर आने के लिए आपका धन्यववाद।





Post a Comment

0 Comments